जलियांवाला बाग हत्याकांड के 100 साल बाद ब्रिटेन को आई शर्म

Thursday, 11 Apr 2019 09:14:20 AM
जलियांवाला बाग हत्याकांड के 100 साल बाद ब्रिटेन को आई शर्म

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

इंटरनेट डेस्क। भारत के इतिहास में सबसे दर्दनाक हत्याकांड के बारे में बात करें तो सब लोगों को जलियांवाला बाग की घटना याद आती है और इस हत्याकांड को दुनिया का सबसे दर्दनाक नरसंहार भी कहा जाता है। भारत में अंग्रेजी शासन के खिलाफ जब लोगों ने आवाज उठाई तो उसको दबाने के लिए एक अंग्रेजी अफसर जनरल डायर ने बिना किसी चेतावनी के इस बाग में मौजूद लोगों पर गोलियों की बौछार करवा दी थी। इससे बचने के लिए लोग कुंए में कूद गए और जब फायरिंग बंछ हुई तो इस कुंए में से 100 से ज्यादा लाशें निकाली गई थी।


  भारत की आलोचना करते हुए डॉनल्ड ट्रंप ने लगाया ये बड़ा आरोप

 इस घटना के 100 साल बाद ब्रिटिश सत्ता को जलियांवाला बाग हत्याकांड पर गहरा अफसोस हुआ है और ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा ने इस घटना को भारतीय इतिहास का शर्मनाक अध्याय करार दिया है। इसके बाद थेरेसा ने 1919 के जालियांवाला बाग हत्याकांड को ब्रिटिश इंडियन इतिहास पर शर्मनाक दाग भी बताया है। इससे पहले भी ब्रिटिश महारानी एलिजाबेथ द्वितीय ने  जालियांवाला बाग दौरे के पहले कहा था यह घटना बहुत ज्यादा दुखद है।

...तो इस कारण पाक पीएम भी चाहते हैं भारत में फिर बने मोदी सरकार

13 अप्रैल 1919 के दिन जनरल डायर के आदेश पर सिपाहियों ने 10 मिनट तक गोलिया बरसाते रहें और इसमें लगभग 380 लोग मारे गए। इस घटना के बाद उस समय अंग्रेजी सरकार ने इस घटना पर दुख नहीं जाता और इसे डायर की छोटी से गलती बताकर इस माामले को दबा दिया।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

loading...