कम डिपॉजिट्स और लोन्स पर SBI का बड़ा फैसला, ग्राहक को होंगे ये फायदे

Monday, 11 Mar 2019 12:26:18 PM
कम डिपॉजिट्स और लोन्स पर SBI का बड़ा फैसला, ग्राहक को होंगे ये फायदे

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) अपनी पॉलिसी में समय-समय पर बदलाव करता रहता है। अब हाल ही में SBI ने कम डिपॉजिट्स और लोन्स पर फैसला लिया है। SBI में बड़ी राशि की जमाओं और शॉर्ट टर्म लोन्‍स के लिये ब्याज दरों को रिजर्व बैंक की रेपो रेट से जोड़ने के फैसले के एक दिन बाद बैंक के चेयरमैन रजनीश कुमार ने एक ग्राहकों के हिट में फैसला सुनाया है।


उन्होंने कहा कि एक लाख रुपये से कम के लोन्‍स और जमा धन पर ब्याज कोष की सीमांत लागत आधारित दर (MCLR) से ही जुड़ा रहेगा जिससे खुदरा ग्राहकों को बाजार की अनिश्चितताओं से बचाया जा सके। बैंक ने अपन फैसले में कहा था कि वह एक लाख रुपये से ज्यादा के जमा खातों और सभी नकद लोन खातों और ओवरड्राफ्ट के अल्पकालिक कर्ज को रेपो रेट से जोड़ेगा। आपको जानकारी में बता दें, अभी रिजर्व बैंक की रेपो रेट 6.25 फीसदी है, वहीं नई दरें 1 मई से लागू होने जा रही है।

आपको जानकारी में बताते चले कि वर्तमान में कोटक महिंद्रा बैंक, यस बैंक, आरबीएल बैंक और डीबीएस बैंक ग्राहकों को बचत खाते पर 5 से 6 फीसदी तक का ब्याज देता है जबकि SBI समेत अन्य सार्वजनिक बैंक, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और अन्य निजी बैंक 4 फीसदी का ब्याज देते हैं। 

यह भी पढ़े:-

PM Modi ने जारी किया 20 रुपये का सिक्का, जल्द आपके हाथ में होगा

बदले रूप में लंदन की सड़कों पर बेखौफ घूमता नजर आया नीरव मोदी

पहली सेल में ही आउट ऑफ स्टॉक हुआ Redmi Note 7, बिकी इतनी यूनिट

 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures