आर्बिट्रेशन केस हारी इन्फोसिस, अब देने होंगे 12.17 करोड़ रुपये

Tuesday, 18 Sep 2018 04:12:59 PM
आर्बिट्रेशन केस हारी इन्फोसिस, अब देने होंगे 12.17 करोड़ रुपये
Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। आईटी क्षेत्र की दिग्गज कंपनी इन्फोसिस को एक बड़ा झटका लगा है। आर्बिट्रेशन ट्राइब्यूनल के मामले में आईटी कंपनी इन्फोसिस केस हार गई है। आईटी कंपनी इन्फोसिस को उसके पूर्व चीफ फाइनैंशल ऑफिसर राजीव बंसल को 12.17 करोड़ रुपये देने का आदेश मिला है। इसके अतिरिक्त कंपनी को इस राशि पर ब्याज भी देगा होगा। बंसल के पक्ष में यह आदेश आर्बिट्रेशन ट्राइब्यूनल ने दिया है। आपको जानकारी में बता दें कि कंपनी जब किसी कर्मचारी को तय समय से पहले नौकरी छोड़ने के लिए कहती है तो उसे जो भुगतान किया जाता है वह सेवरेंस पे कहलाता है । वहीं बंसल ने आरोप लगाया था कि कंपनी ने उन्हें 17.38 करोड़ रुपये की पूरी सेवरेंस राशि नहीं दी । 


साल 2015 में बंसल ने इन्फोसिस को छोड़ दिया था और वह कंपनी छोड़ने के बाद 17.38 करोड़ रुपये के सेवरेंस राशि की उम्मीद कर रहे थे। लेकिन कंपनी ने उन्हें केवल 5.2 करोड़ रुपये ही दिए और बाकी राशि यह कहते हुए रोक ली गई कि बंसल कुछ नियमों का पालन नहीं कर सके। इसके बाद बंसल इस मामले को आर्बिट्रेशन में ले गए। इसके बाद इन्फोसिस ने बंसल के खिलाफ काउंटर क्लेम दायर करते हुए पहले दिए गए 5.2 करोड़ रुपये के सेवरेंस को रीफंड करने और बाकी नुकसानों की भरपाई करने को कहा है। 

बंसल के सेवरेंस पैकेज को लेकर इन्फोसिस में कॉर्पोरेट गवर्नेंस इशू खड़ा हो गया था। साल 2017 में लगभग पूरे साल यह मामला चला। वहीं इन्फोसिस के फाउंडर एन आर नारायण मूर्ति ने एक बार कहा था कि ऐसा लगता है कि सेवरेंस पैकेज बंसल को खामोश रहने के लिए दिया गया है। इस मसले की वजह से इन्फोसिस के तत्कालीन सीईओ विशाल सिक्का और चार बोर्ड मेंबर्स को जाना पड़ा था। इनमें इन्फोसिस के तत्कालीन चेयरमैन आर सेशासायी भी जुड़े हुए थे।  Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures